दबंग और सिंघम बनेंगे यूपी के पुलिस वाले

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पुलिस अपनी छवि सुधारने के लिए नया तरीका इस्तेमाल करने जा रही है। प्रदेश के एडीजी अरूण कुमार (कानून व्यवस्था)ने सभी एसएसपी को पांच पेज का सर्कुलर जारी किया है। इसमें उन्हें मातहत पुलिस कर्मचारियों को दंबग,सिंघम और अब तक छप्पन जैसी फिल्मोंदिखाने को कहा गया है। अरूण कुमार का मानना है कि इन फिल्मों को देखर पुलिस वालों का हौसला बढ़ेगा और वेअपनी डयूटी सही ढंग से निभाने के लिए प्रेरित होंगे। दबंग में सलमान खान,सिंघम में अजय देवगन और अब तक छप्पन में नाना पाटेकरको सुपर पुलिसमैन के रूप मेंदिखाया गया है। अरूण कुमार को इससे कोई फर्कनहीं पड़ता कि फिल्मों में कुछ पुलिस वालों को भ्रष्ट दिखाया गया है। सर्कुलर के मुताबिक जनता चाहती है कि पुलिस वाले अच्छे इरादे से अपनी डयूटी निभाए लेकिन वे जो काम करते हैं वह अस्वीकार्य है। यह स्पष्ट है कि जनता आपकी कमजोरियों और ताकत को अच्छी तरह जानती है। जनता यही चाहती है कि आप सहीतरीके से अपना काम करें। किसी और चीज की परवाह न करें। इससे आपकी छवि सुधरेगी और आपको सम्मान भी मिलेगा। कुमार ने बताया कि एसएसपी को कहा गया है कि वे पुलिस कर्मियों को प्रेरित करने वाली फिल्में देखने के लिए उत्साहित करें। अक्सर फिल्मों में पुलिस वालों को विलेन के रूप में दिखाया जाता है बावजूद इसके फिल्मों का यही संदेश होता है कि पुलिस वालों को जनता के प्रति मित्रवत और संवेदनशील होना चाहिए। गंगाजल और अर्धसत्य भी अच्छी फिल्में हैं। पुलिस वालों को इन फिल्मों को भी देखना चाहिए। इस सुर्कलर को लेकर एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि एडीजी सपनों की दुनिया में जी रहे हैं। कुंडा के उप पुलिस अधीक्षक जिया उल हक ने प्रतापगढ़ के बलिपुर गांव में दबंग बनने की कोशिश की थी। 2 मार्च को निर्मम तरीकेसे उनकी हत्या कर दी गई। घटना के बाद एडीजी भारी पुलिस बल के साथ घटनास्थल परगए थे। एडीजी अच्छा भाषण दे सकते हैं। पुलिस सुधारों पर वह अच्छा सुर्कलर जारी कर सकते हैं लेकिम हम उसका पालननहीं कर सकते।

6 comments:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

वाह !!!बहुत सटीक प्रस्तुति,,,RECENT POST: गर्मी की छुट्टी जब आये,

Shanti Garg said...

Achhi khabar....
Thanks

Sanju said...

Sabhi jagah esa ho to...

JEEWANTIPS said...

Nice post.....
Mere blog pr aapka swagat hai

Chaitanyaa Sharma said...

हनुमान जयंती की शुभकामनाएं

Virendra Kumar Sharma said...


जिसका स्वमान हनू हो वह हनू -मान होता है .जो मान(अहंकार ,अभिमान का मर्दन कर चुका है सदैव ही आज्ञा कारी है वह हनू -मान है .जो हर काम राम से पूँछ के करे इसीलिए पूंछ लिए है वह हनू -मान है .बढ़िया प्रस्तुति हनुमान जयंती पर . शुक्रिया इंडिया दर्पण .हनुमान जयंती मुबारक .