खत्म होगा पंतजलि ट्रस्ट का चैरिटेबल दर्जा


नई दिल्ली। आयकर विभाग बाबा रामदेव के ट्रस्ट का एक चैरिटेबल संगठन के तौर पर रजिस्ट्रेशन रद्द करने की तैयारी में है। विभाग इस ट्रस्ट को दी जा रही सभी

छूट वापिस लेने वाला है।
विभागीय जांच में सामने आया है कि बाबा रामदेव का पतंजलियोगपीठ ट्रस्ट 2009-10 के दौरान कई व्यवसायिक गतिविधियों में लिप्त था। आयकर कानून की धारा-12 (ए) के तहत पतंजलि योगपीठ ट्रस्ट को अब तक छूट मिलती रही है तथा वह अपनी आय शून्यबताता रहा है। सूत्रों के अनुसार जांच में ट्रस्ट की टेक्सेबल इनकम 72.37 करोड़ रूपए आंकी गई है।
विभाग 24 अगस्त को पंतजलि ट्रस्ट को इस संबंध में नोटिस भेज चुका है। एक अखबारके अनुसार नोटिस भेजने से पहले विभाग ट्रस्ट के अधिकारियों से 100 सवालों के रूप में स्पष्टीकरण प्राप्त कर चुका है।

11 comments:

Shanti Garg said...

very good thoughts.....
मेरे ब्लॉग

जीवन विचार
पर आपका हार्दिक स्वागत है।

शालिनी कौशिक said...

right step .nice presentation.

Virendra Kumar Sharma said...

अजी रामदेव जी की क्या औकात है ये रिमोटिया सरकार तो शहीदों पे मुक़दमे दाग सकती है बादे मर्ग .वो जो कोप -भवानी / कोप कैकई हुश हुश करके संसदीय स्वानों को हड़काती है वह जो करादे सो कम .कृपया यहाँ भी पधारें -
ram ram bhai
मंगलवार, 28 अगस्त 2012
आओ पहले बहस करो
http://veerubhai1947.blogspot.com//
Hip ,Sacroiliac Leg Problems
Hip ,Sacroiliac Leg Problems/http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2012/08/hip-sacroiliac-leg-problems_28.html/
आजमाए हुए रसोई घर के नुसखे

दिगम्बर नासवा said...

सरकार के विरुद्ध बोलने की सज़ा तो वो किसी को भी दे सकते हैं ... राजा बने बैठे हैं ...

Sanju said...

nice presentation....
Aabhar!
Mere blog pr padhare.

kunwarji's said...

बहुत ही देरी से उठाया गया कदम, ये सब तो इस सरकार ओह क्षमा करना, सोनिया जी ने बहुत पहले उठा लेना चाहिए था!खुद विदेशी के तलवे चाटने वाला प्रशाशन एक संत पर नेपाली होने पर मुकदमा चलाता है!हमारे देश के ही नागरिक संतो पर लाठिया चलाते है, किसी विदेशी के कहने पर.,

आजकल देश में हास्यास्पद पर दुखद घटनाक्रम चल रहा है!नशे में जमाना है,ज़माने में हम!

तो चलने दो जैसा है ,
कुँवर जी,

Dr.NISHA MAHARANA said...

isthithi badi vikat hai...sab aur vratachar ka bolbala hai...

Kailash Sharma said...

सही कदम, पर प्रदर्शन के बाद ही क्यों?

Ramakant Singh said...

सठं प्रति साठ्यम समाचरेत

प्रतिभा सक्सेना said...

ख़बरों को सही रूप मेंप्रस्तुत करने के लिये आपको साधुवाद !

प्रेम सरोवर said...

इन्हे दबाने के लिए सरकार सब कर रही है। सच बात सभी को बुरी लगती है। धन्यवाद ।